Hindi

Dedh Ishqiya

डेढ़ इश्क़िया – क्वियरियत की शाइराना दावत

मुनीरा और बेगम पारा, 'डेढ़ इश्क़िया' में निर्देशक अभिषेक चौबे की फ़िल्म "डेढ़ इश्क़िया" (२०१४, भारत, उर्दू) में दो औरतें अपनी मुहब्बत को मक़ाम तक पहुँचाती हैं - पितृसत्ता से कभी सुलह करके, तो कभी उसे हराकर। स्त्रियों के परस्पर प्रेम का उल्लेख भारती... Read More...
Bhopal Protest Against 377

भोपाल विरुद्ध ३७७

"वो हमारे गीत क्यों रोकना चाहते हैं?खामोशी तोड़ो, वक़्त आ गया!" रविवार १५ दिसंबर २०१३ को जागतिक कोप दिवस ('ग्लोबल डे ऑफ़ रेज') मनाया गया। भारत और दुनिया के दीगर शहरों में उच्चतम न्यायलय के ११ दिसंबर के भारतीय दंड संहिता के धारा ३७७ को बहाल करने के ... Read More...
Aditya part 2

शृंखलाबद्ध कहानी: “आदित्य”: भाग २

"आदित्य और मैं, मैं और आदित्य"; तस्वीर: बृजेश सुकुमारन मैं आदित्य से अभिन्न हूं। हम दो शरीर एक जान हैं। पढ़िए कहानी की पहली कड़ी यहाँ। यह सुन कर सभी हंसने लगे, आदित्य के चेहरे को मैने देखा वह भी हंस रहा था लेकिन उसकी हंसी मुझे झूठी जान पडी जैसे स... Read More...
Sec 377 protest India by gays

सम्पादकीय १ (जनवरी ०१, २०१४)

हम नहीं हैं अपराधी! (तस्वीर: बृजेश सुकुमारन) नमस्कार! नए साल २०१४ के पहले दिन गैलेक्सी के हिंदी संस्करण - भारत के पहले लैंगिकता अल्पसंख्यकों के हिंदी मासिक का विमोचन करते हुए हमें बहुत ख़ुशी हो रही है। भारत में समलैंगिक संबंधों के अपराधीकरण को क़ायम... Read More...
india protests against Supreme Court decision

काव्यात्मक प्रतिवाद

समानता का प्रस्ताव ३७७ में बदलाव (तस्वीर: बृजेश सुकुमारन)   जो बात उड़ चली वह फिरसे दफ़न नहीं होती   रविवार, १५ दिसंबर २०१३ को भारत और विश्व के विभिन्न शहरों में "जागतिक कोप दिवस" ("ग्लोबल डे ऑफ़ रेज") मनाया गया। ११ दिसंबर २०१३ को आए उच... Read More...
Gays protest against Sec 377 in India

क्या बात कुफ्र की की है हमने?

३७७ भारत छोडो! (तस्वीर: बृजेश सुकुमारन) सुप्रीम कोर्ट से आये इस फैसले पर आवाजें भी उठनी शुरू हो चुकीं हैं   वो सुबह अपने आप में कई मायने में ख़ास थी। तारीख के हिसाब से भी ,और इस मायने में भी कि देश के कुछ नागरिक (सुप्रीम कोर्ट की नज़र में ‘ए म... Read More...
spiderman mask at gate

कोलाहल से विचल

पुनरपराधिकरण से कोलाहल (तस्वीर: बृजेश सुकुमारन) एक युवक की सुप्रीम कोर्ट के निर्णय के पश्चात विडियो द्वारा व्यथित प्रतिक्रिया   लैंगिकता को समझने के लिए संसाधन इंटरनेट पर प्रायः अंग्रेजी भाषा में पाये जाते हैं। इसलिए आदित्य शंकर का "कोलाहल" ... Read More...
Portest by gays against Supreme Court criminalising homosexuality

संघर्ष जारी है

संघर्ष जारी है (तस्वीर: बृजेश सुकुमारन) ये अधिकारों और समानता की लड़ाई है   हमारे समाज का बड़ा तबक़ा अपने अधिकारों को पाने के लिए लड़ रहा है। इसमें ‘आधी आबादी’ यानि औरतों से लेकर दलित, आदिवासी आवाज़ बुलंद कर रहे हैं। बदलते समाज का एक प्रबुद्ध और ... Read More...
Hindi Play dushyantapriya

लोकप्रिय “दुष्यन्तप्रिय”

दुष्यंत रूढ़ीवादी सोच को बदलने का एक सराहनीय मराठी नाट्याविष्कार   कालिदास की मशहूर कृति ‘अभिज्ञान शाकुन्तलम्’ को भले ही आपने न पढ़ा हो। हाल ही में मुबई में ‘गुलाबी थियेटरवाले’ ग्रुप ने रंगमंच पर इसे एक नए संदर्भ और ‘ट्विस्ट’ के साथ प्रस्तुत... Read More...
Gay love story

शृंखलाबद्ध कहानी: “आदित्य”: भाग १

आदित्य - एक कहानी. तस्वीर: बृजेश सुकुमारन मैं आदित्य से अभिन्न हूं। हम दो शरीर एक जान हैं   अक्सर नेट दोस्तों से बात करते हुए वो आदित्य के बारे में पूछते हैं कि कौन है आदित्य? काफ़ी सोच विचार के बाद यह निर्णय लिया कि अब आदित्य का परिचय सब लोग... Read More...
homosexual man india

क्या समलैंगिकता प्राकृतिक है?

"मैं नैसर्गिक हूँ" (तस्वीर: बृजेश सुकुमारन) मैं एक पुरुष हूँ, और पुरुषों के प्रति आकर्षण मेरे लिए पूर्णतः स्वाभाविक है   कुछ लोगों की धारणा है के प्रकृति (नेचर) में मिलाप केवल स्त्री और पुरुष के बीच होता है। समाज में बहुसंख्या लोग विषमलेंगिक... Read More...