Coming Out of Closet

Masked Man at Pride

कविता : मुझको मुझसे मिलने दो

एक अरसा हुआ अब तो मुझको मुझसे मिल लेने दोइस समाज और इस सोच से अब तो कुछ पल चैन की मुझको भी जी लेने दो। कैसे समझाऊँ कि कितना तड़प रहा हूँ? इस झूठी पहचान को ख... Read More...

Leaving the Closet Behind

Coming out is difficult for the confessing party as well as the party it is being confessed to and we get to see myriad of reactions.