वो आख़िरी मुलाकात…

नमन ने कपड़े पहने और जाने के लिए तैयार हो गया। जैसे ही वह दरवाजे से बाहर निकला, मैने उसे आखिरी बार देखा और उसे एक मुस्कान दी। जैसे ही दरवाज़ा बंद हुआ, मैं ज़ोर ... Read More...

बचपन मे हुए यौन शोषण के ज़ख्म…

बात  उस  समय की है जब में नौ साल का था। जहाँ बचपन से ही हमेशा मेरे साथ के सारे दोस्त व भाई क्रिकेट व फुटबॉल खेलने के लिए हमेशा तैयार रहते थे वहीँ मेर... Read More...
fem sahming gay t shirt

Poem: Judgemental Queers

“No fat, no femme, no slim, not them.”I cringed at the words, my eyes bled. I flinched a little as I furthermore read..“Not above thirty, not below nineteen,No... Read More...

कविता : इक गे की अधूरी कहानी…

दुपट्टा मम्मी का लेकर , कभी साड़ी पहनता थाकभी बहनो के संग में वो, घर घर खेल लेता थाअगर खेलेगा ये, तो मैं नहीं खेलूंगा दोस्तोंबड़े भाई की ईग्नोरेनंस, वो अक्सर झ... Read More...