Hindi

'ब्रेड-कटलेट-पोहा-ऑमलेट' - एक कहानी | तस्वीर: ग्लेन हेडन | सौजन्य: क्यूग्राफी |

“ब्रेड-कटलेट-पोहा-आमलेट” (कहानी)

मई - जुलाई २०१६, ग्राइंडर पर: 'जगह है':-“बॉडी नहीं प्लीज़” 'आर्य५२७':-“ठीक है” 'जगह है':-“नो किसिंग...नो टचिंग" 'आर्य५२७':-“ठीक है” 'जगह है':-“सिर्फ ब्लो जॉब ” 'आर्य५२७':-“ठीक है” 'जगह है':- “म्म्म...” 'जगह है':-“जब तुम ब्लो करोगे अगर मैं स्मो... Read More...
'तथाकथित से संवैधानिक तक' | तस्वीर: अमन अल्ताफ | सौजन्य: क्यूग्राफी |

संपादकीय: ‘तथाकथित’ से ‘संवैधानिक’ तक: व्यक्तिगतता की जीत ने जगाई लैंगिकता अल्पसंख्यकों में आशा की किरण

“निजिता या व्यक्तिगतता एक आतंरिक और मूलभूत अधिकार है”। भारतीय उच्चतम न्यायलय के ९ न्यायाधीशों के संविधान पीठ ने आज २४ अगस्त २०१७ को यह ऐतिहासिक फैसला दिया। संविधान के अनुच्छेद २१ के तहत हर भारतीय नागरिक का प्रदत्त जीवन और स्वातंत्र्य संरक्षित है। केव... Read More...
'सिसक' (एक कविता) | तस्वीर: हृषिकेश पेट्वे | सौजन्य: क्यूग्राफी |

सिसक – एक कविता

रोशनदानों की रोशनी सी पुलक-पुलक मैंने इबादत पढ़ी है जो परवरदिगार इसका तू और आयात तेरे अफ़साने। जावेदा-सी नहीं है ये शमा कोई, तेरी जुस्तजू में आफ़ताब-सा मेरा हिय सुलग उठा है। हिय मेरा जो पुलक-पुलक ये सुलगे, ये तो बस पाक होने का ज़रिया है। आसीबी आत... Read More...
'वापसी' (२/२) | तस्वीर: ग्लेन हेडन |

“वापसी” एक शृंखलाबद्ध कहानी (भाग २/२)

कहानी की पहली किश्त यहाँ पढ़ें। उसका घर, घर जैसा था। फिर बातें हुई, बहुत-सी बातें, कुछ जरुरी थी, कुछ ग़ैर-जरुरी, कुछ याद हैं, बहुत-सी नहीं भी। उन बातो का सार यही था कि उसका नाम मधेश है, जिसका मतलब होता है मच्छर या मक्खी या तितली या ऐसा ही कुछ, मुझे आज... Read More...
'वापसी' (१/२) | तस्वीर: क्लेस्टन डीकोस्टा | सौजन्य: क्यूग्राफी |

“वापसी” एक शृंखलाबद्ध कहानी (भाग १/२)

एक सपना हर रात आता है। अँधेरा-सा कॉरिडोर है। कोने पर लिफ्ट है। गरदन झुकाये मैं चला जा रहा हूँ। आवाज़ आती है।  "एक ही प्रेस करना, ज़ीरो नहीं।"  कोई चेहरा नहीं। बस आवाज़। अरसा गुज़र चूका है, पर कुछ है जो मेरे ज़हन से उतरा नहीं है। सपनों ने काफी तबाही मचायी ... Read More...
पॉल एक गाथा (८/८) | तस्वीर: फेबियन हार्टवेल |

“पॉल – एक गाथा” – श्रृंखलाबद्ध कहानी (भाग ८/८)

यह एक वास्विक घटनाओ से प्रेरित परन्तु काल्पनिक कहानी है। तस्वीरें केवल प्रस्तुतीकरण हेतु हैं  उनमें दर्शाए गए लोगों का कथा से कोई संबंध नहीं है। इस कहानी की पिछली कड़ियाँ यहाँ पढ़ें: भाग १ | भाग २ | भाग ३ | भाग ४ | भाग ५ | भाग ६ | भाग ७ | प्रस्तुत है... Read More...
'पॉल एक गाथा' (७/८) | तस्वीर: फेबियन हार्टवेल | तस्वीर केवल प्रस्तुतीकरण हेतु'पॉल एक गाथा' (७/८) | तस्वीर: फेबियन हार्टवेल | तस्वीर केवल प्रस्तुतीकरण हेतु|

“पॉल – एक गाथा” – श्रृंखलाबद्ध कहानी (भाग ७/८)

 यह एक वास्विक घटनाओ से प्रेरित परन्तु काल्पनिक कहानी है। तस्वीरें केवल प्रस्तुतीकरण हेतु हैं और उनमें दर्शाए गए लोगों का कथा से कोई संबंध नहीं है। इस कहानी की पिछली कड़ियाँ यहाँ पढ़ें: भाग १ | भाग २ | भाग ३ | भाग ४ | भाग ५ | भाग ६ | प्रस्तुत है कहान... Read More...
पॉल एक गाथा (६/८) | तस्वीर: रणजीत कुमार | गेलेक्सी हिंदी |

“पॉल – एक गाथा” – श्रृंखलाबद्ध कहानी (भाग ६/८)

शाम को ड्यूटी ख़तम होने के बाद मैं पॉल के वार्ड में गया। वो अभी भी सो रहा था। दवाई का असर था। मैं उसके पास बैठा था। तभी उस वार्ड के कम्पाउंडर ने मुझे आकर कहा: "भैया, आज डॉक्टर इस के लिए शॉक थेरपी लिख कर गए हैं। कल इसे शॉक देने के लिए दुसरे हॉस्पिटल शि... Read More...

“पॉल – एक गाथा” – श्रृंखलाबद्ध कहानी (भाग ५/८)

कहानी 'पॉल एक गाथा की पिछली कड़ियाँ यहाँ पढ़ें: भाग १ | भाग २ | भाग ३ | भाग ४ | प्रस्तुत है भाग ५: इतना सुनकर इंस्पेक्टर थोडा ठंडा पड़ गया। और डॉक्टर से कहा, "सर... प्लीज आगे रिपोर्ट मत करना। आगे से ऐसा कतई नहीं होगा।" डॉक्टर ने दोनों पुलिस को वार्... Read More...
'पॉल एक गाथा' (४/८) | तस्वीर: फेबियन हार्टवेल |

“पॉल – एक गाथा” – श्रृंखलाबद्ध कहानी (भाग ४/८)

कहानी 'पॉल एक गाथा की पिछली कड़ियाँ यहाँ पढ़ें: भाग १ | भाग २ | भाग ३ | प्रस्तुत है भाग ४: उसने बताया कि पॉल सेकंड इयर का स्टूडेंट था। कॉलेज में ही स्थित होस्टल में रहता था। वह बहुत टैलेंटेड लड़का है, इधर फोरेन लैंग्वेज का स्टूडेंट है। बहुत ही अच्छ... Read More...
'पॉल एक गाथा' (३/८) | तस्वीर: फेबियन हार्टवेल |

“पॉल – एक गाथा” – श्रृंखलाबद्ध कहानी (भाग ३/८)

कहानी 'पॉल एक गाथा की पिछली कड़ियाँ यहाँ पढ़ें: भाग १ | भाग २ | प्रस्तुत है भाग ३: उसने मेरी तरफ देखा और मुस्कराते हुए अपना हाथ मेरी तरफ बढ़ा दिया। मैंने भी उसका हाथ पकड़कर उसके पास बैठ गया। वह अभी भी मुस्करा रहा था। उसकी वे अधखुली नीली आँखे बहुत मास... Read More...

‘गे संबंधो के लिए असहजता और मजाक क्यों?’

बीते दिनों प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और आस्ट्रेलियाई प्रधानमंत्री मैल्कम टर्नबुल की फोटो सोशल मिडिया पर प्रसारित हो रही है, जिसके कैप्शन में लोग उन्हें गे कपल के तौर पर बता रहे हैं। फोटो के नीचे आने वाले कमेंट में अंग्रेजी में 'लोल' 'एल्माओ' 'रोफ्ल' ... Read More...