हिन्दी

'कल रात' - एक कविता , छाया: आकाश मंडल, सौजन्य: QGraphy

‘कल रात’ (एक कविता)

वह थी हकीक़त या ख़्वाब जो देखा था कल रात को सुबह उठकर न भूली मैं तो उस बीती बात को सदियों से जैसे बिछड़े वैसे हम दोनों मिले थे और गुज़ारे ... Read More...

Women

16x9_save_me_6647528425_o__lightbox169

Reality Check on The Women in India

Empowerment for an Indian girl would begin with holding her head high and walking up the ladder of life facing the barriers as and when required.

Literature