हिन्दी

Trans

समाज के तिरस्कार के बावजूद, आगे बढ़े हैं कई किन्नर

जरुरत हैं की आप और हम जैसे लोग भी समाज के मुख्य धारा में इन्हे अपनायें; ताकि ये लोग भी कंधे से कंधा मिलाकर इस महान भारत की प्रगति में अपना योगदान दे सके
crying eye

कविता : दद्दा

मैं ढूँढता रहता हूँ ख़ुद को, शराब की ख़ाली बोतलों में. लुढ़के हुए गिलासों, जूठी तश्तरियों में

Women

Health & Sexuality

Literature

Scrolling

I imagine yet another typical Insta-yogi: Fit body in insanely difficult yoga position against spectacular natural background, accompanied by a few clichés about wisdom or love. But no, here's something else.