Hindi

Trans

समाज के तिरस्कार के बावजूद, आगे बढ़े हैं कई किन्नर

जरुरत हैं की आप और हम जैसे लोग भी समाज के मुख्य धारा में इन्हे अपनायें; ताकि ये लोग भी कंधे से कंधा मिलाकर इस महान भारत की प्रगति में अपना योगदान दे सके
crying eye

कविता : दद्दा

मैं ढूँढता रहता हूँ ख़ुद को, शराब की ख़ाली बोतलों में. लुढ़के हुए गिलासों, जूठी तश्तरियों में

कुछ यूँ शुरू हुई यह लव स्टोरी

बहुत कोशिश करता था खुद को बदलने की, लड़को की तरह रहने की, चलने की, बात करने की पर हर बार मैं वही हरकत करता जो मुझे अछी लगती। इस वजह से स्कूल में हँसी का पात्र बन गया

पुरुषों की सेक्स समस्याएँ

हर आयु के पुरुषों में सेक्स संबंधी समस्याएँ होना आम बात है। पुरुषों में पायी जाने वाली आम दिक़्क़तें हैं- शीघ्रपतन और दीर्घ पतन- या तो बहुत जल्दी स्खलन हो जाना या फिर ज़रूरत से अधिक समय लगना।
Recognition of Relationships...Photo Credit: QGraphy & Avinash Singh

समाज

सबकी अपनी अपनी प्राथमिकताएं होती हैं। सबको अधिकार है अपनी मर्जी के मुताबिक ज़िन्दगी जीने का।

सपनों पे भारी समाज

विजय की सहनशक्ति तब खत्म हुई जब हर कोई उसे चिढ़ाने लगा, कोई कहता था "तू इस कॉलेज से चला जा तेरे जैसों का यहाँ कोई काम नहीं" तो कोई उसके सामने "ए छक्के" कहकर चिढ़ाता था।

हाथों की मेहंदी

लड़के कब से हाथों में मेहंदी लगवाने लगे? ये लड़कियों वाले शौक क्यों पाल रखे हैं? और सवालों की इन झड़ी में सबसे मुश्किल सवाल - तू लड़का ही है ना?

अलैंगिकता (असेक्सयूएलिटी) क्या है?

एसेक्सुअलिटी एक यौन अभिविन्यास है जहाँ किसी भी लिंग के प्रति यौन आकर्षण का लगातार अभाव है। इसका मतलब यह बिल्कुल नहीं होता कि ऐसे लोगों में भावनायें नहीं होती, या संवेदनाएँ नहीं होती।