गे

कविता: उम्मीद

मेरे तकिए की नमी ये गवाह देती है कि, टूटके, बिखरके, मैं कैसे सिमटता हूँ

समलैंगिक पीड़

मीठा कहते है लोग पर, आता नहीं कोई प्रेम की मीठी खीर लेके

कविता: गे देटिंग एप्प

हरकोई यहाँ पे सेक्स के लिए नहीं होता, कोई होता सच्चे दोस्त ओर अपने साथी के तलाश के लिए

कविता: एक सिमटती हुई पहचान

मिल गई हमें सांवैधानिक सौगात, तीसरे दर्जे के रूप में, आखिर कब मिलेंगे बुनियादी अधिकार, भारतीय नागरिक के स्वरूप में?

समलैंगिक और समाज

ये आज़ादी तो बस नाम की जो सलाखो से बचाती है, पर समलैंगिको को तो घरो में कैद हर बार किया जाता है..

गे डेटिंग, हुकउप और कोरोना

कोरोना काल में बस कुछ सावधानी भरे नियमों का पालन कर... हम अपने डेटिंग पार्टनर के साथ सेक्स को आज़ाद और रूहानियत एहसास के साथ करना शुरू कर सकते है।

कहानी : मुझे कुछ कहना है…

हाँ... मैं गे हूँ, एक समलैंगिक... जिसको सिर्फ लड़कों मे दिलचस्पी है। मुझे पता है तुम्हें बहुत गुस्सा आएगा ये जानकर। तुम शायद कभी मुझे माफ नही करोगी।