कविता: गे देटिंग एप्प


समाज मे जैसे हमारी कदर नहीं 
बस यहाँ भी हमारी भावनाओं का कोई मोल नहीं 
कोई पूछता है क्या हो तुम? उम्र क्या है,पसन्द क्या है ?
किसी को यहाँ पे प्यार की कोई कदर नहीं।

समलैंगिकता मतलब जिस्म वाला प्यार नहीं 
माना ये डेटिंग एप्प है
पर यहाँ भी जिस्मानी प्यार के अलावा कोई और बात नहीं 
हर कोइ यहाँ पे आके
अपनी बात बोल के चला जाता है
हमारी बात सुनने के लिए कोई राज़ी नहीं 

लोगो को हम कैसे समझाये की
हर कोई यहाँ पे सेक्स के लिए नहीं होता 
कोई होता है, सच्चे दोस्त ओर अपने साथी के तलाश के लिए 
पर यहाँ पे ये सब समझने वाला कोई नहीं

जीतू बगर्ती
Latest posts by जीतू बगर्ती (see all)