Featured

crying eye

कविता : दद्दा

मैं ढूँढता रहता हूँ ख़ुद को, शराब की ख़ाली बोतलों में. लुढ़के हुए गिलासों, जूठी तश्तरियों में

कुछ यूँ शुरू हुई यह लव स्टोरी

बहुत कोशिश करता था खुद को बदलने की, लड़को की तरह रहने की, चलने की, बात करने की पर हर बार मैं वही हरकत करता जो मुझे अछी लगती। इस वजह से स्कूल में हँसी का पात्र बन गया

Delhi’s Rainbow Lit Fest Goes Digital This Year

Being held over the weekend of December 5 & 6, the event will see the coming together of over 50 leading authors, poets, activists, scholars, filmmakers, artists, performers and business leaders to discuss a variety of topics