ऋषभ गोयल (Rishabh Goyal)

कविता : नदी के किनारे

नदी के दो किनारे थे हम, एक दूसरे से बिल्कुल अलग। हमारा एक होना, लगभग नामुमकिन और हमारा एक होना, मतलब नदी का अंत।

ऋषभ गोयल (Rishabh Goyal)

2 साल पहले एक ऑटोमोबाइल इंजीनियर को भाषा और शब्दों से प्यार था, इसलिए उसने अपने जुनून के लिए अपनी नौकरी छोड़ दी। आज ऋषभ एक स्थानीयकरण MNC में हिंदी भाषा के प्रमुख है। विभिन्न प्लेटफार्मों पर कविताओं और कहानियों को लिखने और प्रदर्शन करने के साथ, उन्होंने भारत के प्रीमियम कॉलेजों में लेखन कार्यशालाओं का संचालन किया है। शब्दों के साथ-साथ उनका दिल और आत्मा भी संगीत के सात स्वरों से गूंजता है।