Society

समलैंगिक और समाज

ये आज़ादी तो बस नाम की जो सलाखो से बचाती है, पर समलैंगिको को तो घरो में कैद हर बार किया जाता है..

The Spectators

Societal bonds, acceptance and pressure many a times makes a person so weak that despite being so vulnerable and in love, people don’t have the courage to step up

समलैंगिकता: नज़रिया और कानून

यह कहना कि, विश्व के अलग-अलग हिस्सों में लैंगिक अनुरूपता अलग-अलग दिखायी देती है, बहुत छोटी बात लगती है। लेकिन समलैंगिकों के प्रति भी सांस्कृतिक और व्यक्तिगत नजरिया व्यापक रूप से भिन्न है।

कविता : वजूद

जब दुनिया ने मुझे मुझसे भरमाया. तब मैंने अपना 'वजूद' अपनाया।

​I am a Starboy

I AM WHO I AM. It’s here that I shall learn to love thyself. I am not sure I would return back to the big bad city.

​The Politics of Shame and Mental Health

The lack of discussions around the politics of social interactions between multiple forces and the mentally ill person at the intersection of these forces needs to be broken, because existence cannot be free of politics, and any non-conforming act or condition will be met with the weapon of shame.