Hadi Hussain

Vishal Tondon’s Suicide is a Collective Queer Failure

we need to talk; about our feelings and the hurt we feel, the insecurities, the invalidity we experience, the constant pressures of an oppressive heteronormative as well as a homonormative society and sub-culture which like a ruthless predator gets over us and takes away our well being, peace and happiness
तुम्हारा इंतज़ार करूँगा...। तस्वीर: बृजेश सुकुमारन।

“ज़ीरो लाइन – एक पाक-भारत प्रेम कथा” – श्रृंखलाबद्ध कहानी (भाग ५/५)

गेलेक्सी हिंदी के सितम्बर २०१४ के अंक में आपने पढ़ी थी हादी हुसैन की श्रृंखलाबद्ध कहानी “ज़ीरो लाइन – एक पाक-भारत प्रेम कथा” के पाँच कड़ियों की चौथी कड़ी। प्रस्तुत ... Read More...
पाक-भारत

“ज़ीरो लाइन – एक पाक-भारत प्रेम कथा” – श्रृंखलाबद्ध कहानी (भाग ४/५)

गेलेक्सी हिंदी के अगस्त २०१४ के अंक में आपने पढ़ी थी हादी हुसैन की श्रृंखलाबद्ध कहानी “ज़ीरो लाइन – एक पाक-भारत प्रेम कथा” के पाँच कड़ियों की तीसरी कड़ी। प्रस्तुत ह... Read More...
"ज़ीरो लाइन - एक पाक-भारत प्रेम कहानी", भाग ३।

“ज़ीरो लाइन – एक पाक-भारत प्रेम कथा” – श्रृंखलाबद्ध कहानी (भाग ३)

गेलेक्सी हिंदी के जुलाई २०१४ के अंक में आपने पढ़ी थी हादी हुसैन की श्रृंखलाबद्ध कहानी “ज़ीरो लाइन – एक पाक-भारत प्रेम कथा” के पाँच कड़ियों की दूसरी कड़ी। प्रस्तुत ह... Read More...
'भाकरिया डुंगरिया रे, थारे-म्हारे बीच मै'..."जीरो लाइन एक पाक-भारत प्रेम कहानी", भाग २। तस्वीर: सचिन जैन।

“ज़ीरो लाइन – एक पाक-भारत प्रेम कथा” – श्रृंखलाबद्ध कहानी (भाग २)

गेलेक्सी हिंदी के जून २०१४ के अंक में आपने पढ़ी थी हादी हुसैन की श्रृंखलाबद्ध कहानी “ज़ीरो लाइन – एक पाक-भारत प्रेम कथा” के पाँच कड़ियों की पहली कड़ी। प्रस्तुत है ... Read More...
क़फ़स-ए-मुहब्बत...

“ज़ीरो लाइन – एक पाक-भारत प्रेम कथा” – श्रृंखलाबद्ध कहानी भाग १

प्रस्तुत है हादी हुसैन की श्रृंखलाबद्ध कहानी "ज़ीरो लाइन - एक पाक-भारत प्रेम कथा"  के पाँच कड़ियों की पहली कड़ी: क़फ़स-ए-मुहब्बत... रात के तीन बज रहे हैं और मैं... Read More...

Hadi Hussain

Hadi Hussain is a social researcher, writer and activist who is continuously struggling to resist, exist, indigenize and decolonize. His interests include intersectional politics, feminism, South Asian LGBT discourse, body politics, cultural anthropology, peace initiatives, decolonization studies and transnational indigenous social movements