नक़ाब – एक कविता

wp
'ये नक़ाब उन्हें तुम्हारी ही देन है'। 'क्वीयर आज़ादी मुंबई, २०१४'। तस्वीर: सचिन जैन।

‘ये नक़ाब उन्हें तुम्हारी ही देन है’। ‘क्वीयर आज़ादी मुंबई, २०१४’। तस्वीर: सचिन जैन।

नक़ाब

चेहरों पर तुमने ओढ़े देखे होंगे नक़ाब उनके

पर सच मानो तो हक़ीक़त में

ये नक़ाब उन्हें तुम्हारी ही देन है।

वो ओढ़े रखना चाहते हैं ये नकाब

सिर्फ इसलिए कि समाज का वो क्रूर चेहरा न दिखे,

जो छीने बैठा है उनसे उनके हक़-हुक़ूक़।

ये नक़ाब उन्हें देन है समाज की ‘नैतिकता’ की !

पर नहीं, ये नक़ाब हर बार देखा नहीं मिलेगा तुम्हें,

फैंक देंगे उसे और

मिलाएंगे वो तुम्हारी आँखों से आँख और

मांगेंगे अपना हक़।

देंगे तुम्हें वो तर्क और तथ्य,

पूछेंगे सवाल, पर

उत्तर में मिलेगा उन्हें मौन।

लेकिन सुनो !

वो नक़ाब इसलिए पहने हैं अभी

ताकि तुम्हारी शर्म बची रहे।

अक्षत शर्मा

अक्षत शर्मा दिल्ली में मास कम्युनिकेशन के छात्र हैं। उन्हें संगीत और नयी चीज़ें सीखना पसंद है।