Queer Photography

“बंधन” – एक तस्वीर-निबंध

इस सप्ताह हम शुरू कर रहे हैं गेलेक्सी औरQGraphy की सहभागिता में हमारा पहला तस्वीर-निबंध। आपको फिल्म 'करण अर्जुन' का गीत शायद मालूम हो: 'यह बंधन तो प्यार का बंधन... Read More...
'सूर्योदय के इंतज़ार में'

‘फ़रिश्ते कगार पर’ – एक तस्वीरी मज़मून

इस बार पेश करते हैं तस्वीरी मज़मून (फोटो-स्टोरी) छायाचित्रकार अभिजीत अलका अनिल का।  सात साल समाजकार्य के क्षेत्र में रहने के बाद, अभिजीत ने जनवरी २०१४ में फ्रीला... Read More...

कुदरती शनाख्त – एक तस्वीरी मज़मून (भाग ३)

नफ़ीस अहमद ग़ाज़ी: तस्वीरी मज़मून ३.१ पहराव, पोशाख, और उसकी ताक़त। देखो मेरा रूप, निहारो अपनी हस्ती। हम चुंबक के ध्रुव विपरीत हैं, और उनका आपसी खिंचाव निर्विवाद।... Read More...
नफ़ीस अहमद ग़ाज़ी: तस्वीरी मज़मून २.१

कुदरती शनाख्त – एक तस्वीरी मज़मून (भाग २)

नफ़ीस अहमद ग़ाज़ी: तस्वीरी मज़मून २.१ दोस्ती - हर तूफ़ान के बाद का किनारा, हर राह का हमसफ़र. नफ़ीस अहमद ग़ाज़ी: तस्वीरी मज़मून २.२ नाम तो बहुत सारे देते है: हि... Read More...
नफ़ीस अहमद ग़ाज़ी: तस्वीरी मज़मून १.१

कुदरती शनाख्त – एक तस्वीरी मज़मून (भाग १)

नफ़ीस अहमद ग़ाज़ी: तस्वीरी मज़मून १.१ 'कुदरती शनाख्त' यह प्रदर्शनी प्यार का उत्सव मनाती है। प्यार दो लोगों के बीच, जो शायद समाज कथित दायरों और सीमाओं से बाहर है... Read More...