Hijra

सिर्फ 6 दिनों में जीता पंचायत चुनाव: कहानी कानपूर की नव निर्वाचित किन्नर सरपंच किरण काजल की

किन्नर होने की वजह से परिवार ने साथ छोड़ा , जीविका के लिए 30 रुपए की मजदूरी की, कानपुर की इस किन्नर के पास है आज सबकुछ - पैसा, सम्मान और शोहरत
Trans

समाज के तिरस्कार के बावजूद, आगे बढ़े हैं कई किन्नर

जरुरत हैं की आप और हम जैसे लोग भी समाज के मुख्य धारा में इन्हे अपनायें; ताकि ये लोग भी कंधे से कंधा मिलाकर इस महान भारत की प्रगति में अपना योगदान दे सके

5 साल से घरवालों से दूर रहनेवाले समलैंगिक लड़के का अपनी माँ को खत

माँ पहले आप मेरे लिए रोती थी, आज मैं आपके लिए रोता हूँ। माँ मुझे आपकी बहुत बहुत याद आती हैं। आँखों से आँसू आते हैं तो थमने का नाम ही नही लेते।