wp

ये किस तरह की बंदिशों में कैद हूँ मैं?
क्यों इस तरह घुट-घुट के जीने को मजबूर हूँ मैं?
अपनी पहचान से दूर रहता हूँ मैं ।
इस कदर जीने को मजबूर रहता हूँ मैं ।
काश होता इतना आसान खुद की पहचान बताना
कि ना पड़ता मुझे खुद को यूँ  छुपाना ।
बहुत तड़पता हूँ, छटपटाता हूँ मैं ।
कोई मुझे जैसा हूँ वैसा ही अपना बना ले बस,
इतना ही तो चाहता हूँ मैं ।

कशमकश से भरी ज़िदगी से थक गया हूँ मैं ।
ना चाह कर भी खामोश सा हो गया हूँ मैं ।
अपनों में अपनों को खोजता हूँ मैं ।
हर किसी की आँखों में अपनी एक जगह ढूँढ़ता हूँ मैं ।
ये किस तरह की बंदिशों में कैद हूँ मैं?
क्यों इस तरह घुट-घुट के जीने को मजबूर हूँ मैं?

अनामिका बर्मन (Anamika Burman)

अनामिका बर्मन एक फ्रीलांसर हैं और वह खाने के बारे में भी लिखतीं हैं।
अनामिका बर्मन (Anamika Burman)

Latest posts by अनामिका बर्मन (Anamika Burman) (see all)