Gender

जेंडर के ढाँचे से जूझता मेरा बचपन

मैं बचपन से ही बहुत ही नटखट, चुलबुला और थोड़ा अलग बच्चा था| मेरी माँ फिल्मों और गानों की बहुत शौक़ीन थी| माँ के दुपट्टे की साड़ी पहनना, नाचना-गाना, मेरे बचपन क... Read More...
man with nath

Poem: Nath

“Poetry Is Possible” is a new poetry book by Vikram Kolmannskog. It is coloured by Vikram’s identity as a gay, spiritual, Indian-Norwegian man. 

My Sexuality Doesn’t Define Me

Yes, I am gay and it doesn’t make me a pervert and I won’t try upon you. Nor does it give you the right to judge my sexuality. My sexuality is no one else’s business to judge and to comment upon
क्रॉसड्रेसर - एक कविता | तस्वीर: वेंकट रामदास | सौजन्य: क्यूग्राफी |

क्रॉसड्रेसर – एक कविता

 कुछ काम मैंने औरतों की तरह किए कुछ नहीं, कई और फिर धीरे-धीरे, सारे   सबसे आखिर में जब मैं लिखने बैठा मैंने कमर सीधी खड़ी करके पंजों और ऐड़... Read More...