Gender

कविता : गुड़िया

गुड़ियाएं मेरे हर राज़ की राज़दार थीकपड़े से बनी, मोटी आँखों वालीअनगढ़ अंगों वाली और हमेशा हँसने वालीजब से बड़ा हुआ, मैंने हर अपना दुख कह दिया इनसेअपनी हर खुशी ब... Read More...

जेंडर के ढाँचे से जूझता मेरा बचपन

मैं बचपन से ही बहुत ही नटखट, चुलबुला और थोड़ा अलग बच्चा था| मेरी माँ फिल्मों और गानों की बहुत शौक़ीन थी| माँ के दुपट्टे की साड़ी पहनना, नाचना-गाना, मेरे बचपन क... Read More...
man with nath

Poem: Nath

“Poetry Is Possible” is a new poetry book by Vikram Kolmannskog. It is coloured by Vikram’s identity as a gay, spiritual, Indian-Norwegian man. 

My Sexuality Doesn’t Define Me

Yes, I am gay and it doesn’t make me a pervert and I won’t try upon you. Nor does it give you the right to judge my sexuality. My sexuality is no one else’s business to judge and to comment upon