कविता : दो मस्तानो की कहानी


अफसाने तो सुने होंगे प्यार के कई
एक किस्सा ये भी सुन लो
बिखरे हैं यहाँ दो दिलों के हसीन पल
एक हिस्सा तुम भी चुन लो

राजा रानी की नहीं ये कहानी
पर दो मस्तानो की है बात बतानी
ये भी इक आम सी बात है
पर सुनकार तुम्हें शायाद हो हैरानी

दो राजा थे वो दिवाने से
उनकी उल्फ़त भी थी तुफानी
जान बसी थी इक दुसरे में
ये बात नही बेमानी

दुनिया के लिये था रिश्ता वो नापाक
मोहब्बत है दो दिलों में ये नहीं था कोई राज़
उनके रिश्ते ने कोई नाम न पाया
पड़ा उन पर दुनियावालों का साया

दूर जाकर भी कैसे नयीं दुनिया बसायें
हर तरफ तो थे वही काले साये
फिर भी ठान ली दोनो ने नहीं हारेंगे अब
भले एक तरफ वो और दूसरे में दुनिया सब

प्यार की परिभाषा उन्होंने  सिखायी
बेखाँन्फ मोहब्बत उन्होंने दिखायी
जिद्द जो थी उन्मे किसी से न डरने की
इस दुनिया में रहकर ही लड़ने की

इक दिन ऐसा भी होगा बेशक
जब धीरे से करवट लेगा वक्त
न होगी किसे भी परेशानी
सिर्फ़ प्यार की होगी दुनिया दिवानी

Amit Rai
Latest posts by Amit Rai (see all)