बोझ नज़र का – एक कविता

तस्वीर: बृजेश सुकुमारन

तस्वीर: बृजेश सुकुमारन

–  अक़ीला  ख़ान

तुम्हारी नज़र मुझमे ऐसी गड़ी
ठिटक कर मैं साकित-सी रह गई खड़ी
कोई नश्तर-सा पेवस्त बदन में हुआ
निगले जाने का अहसास तन में हुआ

वार तूने हवस का किया तीर से
मैंने तोडा वह हिम्मत की शमशीर से
तुमने सोचा कि शायद मैं डर जाऊँगी
होकर दोहरी शर्म से मर जाऊँगी

तेरी गलती भुला दूँ ये ठाना मैंने
चाहा कुव्वत को अपनी आजमाना मैंने
अपनी नफरत नज़र से बयाँ कर गई
तीखे तेवर में बढ़कर अयाँ कर गई

मेरी हिम्मत पर तू जो खटक-सा गया
बोझ तेरी नज़र का झटक-सा गया

शब्दार्थ:
साकित: बुत (मूर्ति) बन जाना
नश्तर: तीर
पेवस्त: चुभना
शमशीर: तलवार
दोहरी: बेहाल
अयाँ: ज़ाहिर

-यह कविता आवाज़-ए-निसवां संस्था द्वारा प्रकाशित ‘बे-बाक क़लम’ कविता संग्रह में प्रकाशित हुई।

Aquila Khan

अकीला को उर्दू शायरी से बहुत लगाव है – लिखना भी और पढ़ना भी। साथ ही नये मुद्दों को समझने और उनपर चर्चा के लिए जगह बनाने में उन्हें ख़ास दिलचस्पी है।इन मुद्दों पर आने वाले समय में अकिला ज़रूर फिल्म बनाना चाहेंगी।