बड़ी मुद्दत हुई तेरी महफिल से रुसवा हुए
ज़ख्म पर ये आज सा लगता है
वैसे तो तनहा पहले भी हुए मगर
पर अब ये सुनापन आग सा लगता है।

यादों की तर्कश में कांटे थे कभी
पर इस बार जज़्बा ये खास लगता है
उनकी आहट रोज़ सूनते थे कभी
पर अब ये खमोशी के आगाज़ सा लगता है।

उलफत के सफर में ठोकर लगीं है मगर
सहारा वो अपना अभी भी पास सा लगता है
वफ़ा की कसौटी पे हार गये हम
ऐसा अब एहसास सा लगता है।

मंझर वो भी था कभी दिलफेंक सा
अब तो राग ये बिना साज का लगता है
इम्तेहान हैं ये इश्क़ के हद्द की
के आलम ये दिल का अब आप सा लगता है।।

Amit Rai